Friday, September 14, 2012

Hindi Diwas

१४ सितम्बर को हिंदी दिवस मनाया जाता है क्यूंकि भारत की संवैधानिक सभा ने १९४९ में हिंदी (देवनागरि लिपि) को भारतीय गणराज्य की आधिकारिक भाषा घोषित की थी।




जानने और ढूँढने से क्या नही मिल जाता है , परन्तु कुछ चीज़ें आप इक्कीसवी सदी की आधुनिकता का सहारा ले के भी नहीं ढूंढ सकते !

ढूँढते रह जाओगे      - अरुण जैमिनी 

चीज़ों में कुछ चीज़ें
बातों में कुछ बातें वो होंगी
जिन्हे कभी ना देख पाओगे
इक्कीसवीं सदी में
ढूँढते रह जाओगे

बच्चों में बचपन
जवानी में यौवन
शीशों में दर्पण
जीवन में सावन
गाँव में अखाड़ा
शहर में सिंघाड़ा
टेबल की जगह पहाड़ा
और पायजामे में नाड़ा
ढूँढते रह जाओगे

चूड़ी भरी कलाई
शादी में शहनाई
आँखों में पानी
दादी की कहानी
प्यार के दो पल
नल नल में जल
तराजू में बट्टा
और लड़कियों का दुपट्टा
ढूँढते रह जाओगे

गाता हुआ गाँव
बरगद की छाँव
किसान का हल
मेहनत का फल
चहकता हुआ पनघट
लम्बा लम्बा घूँघट
लज्जा से थरथराते होंठ
और पहलवान का लंगोट
ढूँढते रह जाओगे

आपस में प्यार
भरा पूरा परिवार
नेता ईमानदार
दो रुपये उधार
सड़क किनारे प्याऊ
संबेधन में चाचा ताऊ
परोपकारी बंदे
और अरथी को कंधे
ढूँढते रह जाओगे

" क्यू बिट " का प्रयत्न यही रहेगा की जिन चीज़ों को खोजा, ढूँढा और जाना जा सकता है , उसे सबके समक्ष प्रस्तुत किया जाये ।
जय हिंद ।
 

No comments:

    Random Posts...!!!